Saturday, September 5, 2009

शिक्षक दिवस पर..

शिक्षक दिवस पर...
एक पत्र उन शिक्षकों के नाम
जिन्हों ने जहां को रोशन करने में
अपना सब कुछ लुटा दिया ।


परम आदरणीय,
                       सादर...!
                                    आपके योगदान को
                                    कैसे भूलेगा यह संसार ?
                                    क्या आपको एक दिवस ही काफी है ?

                                    जब पुरस्कृत होता है छात्र
                                    उसके पार्श्व में और कौन है
                                    आपके सिवाय,
                                    किसे मिलता है पुरस्कार,
                                    कौन होता है हर्षातिरेक से पागल,
                                    किसका उल्लास छूता है आकाश -
                                    छात्र का ? या आपका ?
                                    हर उस रोज होती है
                                    स्थापना ....!
                                    शाश्वत सच की
                                    जिस तक पहुचाने का माध्यम
                                    अगर कोई है तो वह....
                                   कोई और नहीं शिक्षक ही है.......!
                                                                                    सादर प्रणाम......!

3 comments:

हिमांशु । Himanshu said...

शिक्षक के प्रति श्रद्धा का शुभ भाव झलक रहा है इन पंक्तियों में । धन्यवाद । जय शिक्षक दिवस ।

वाणी गीत said...

शिक्षक दिवस की ढेरों शुभकामनायें ..!!

शिवम् मिश्रा said...

शिक्षक दिवस पर मैं अपने सभी शिक्षकों
का पुण्य स्मरण करते हुए नमन करता हूँ |
भगवान् उन सब को दीर्घजीवी बनाये | ताकि वह सब ज्ञान का
प्रकाश दूर दूर तक पंहुचा सकें |