Tuesday, September 22, 2009

कौन कहे जा करके - उस मां से .....!

दुर्घटनाए
जानलेवा न हों
ढाढस बाधा जाना ...!
बात समाझ में आती है ।

हाईवे पर छः घण्टे के अन्दर
छः छः मौतों ने
हिला कर रख दिया
सड़क पर वही चल रहे होते हैं
जिनसे न जाने कितनों के
अरमान जुड़े होते हैं ।

किसी मां ने लगाया होगा तिलक
जा बेटा ! तुझे आज अवश्य मिलेगी सफलता
बगल में परदे से झांक रही पत्नी
कितने अरमानों से की होगी मंगल कामना
हे ईश्वर ! अब हमारा चमन भी खिल उठे
चौखट पर खेल रही बिटिया ने देखा होगा.....!
अबकी पापा रेलगाड़ी जरूर ला देंगे
खूब चलाउंगी मै

कौन कहे जा करके
मां से !
पत्नी से ! और
उस नन्हीं सी बिटिया से ।

और कैसे ?
कि तुम्हारा ........!

अनायास, असमय, अकारण
हंसी अच्छी नहीं लगती....!

फिर यह मौत....?

8 comments:

Pankaj Mishra said...

मस्त लिखा है आपने हेमंत भाई

Nirmla Kapila said...

कौन कहे जा करके
मां से !
पत्नी से ! और
उस नन्हीं सी बिटिया से ।

और कैसे ?
कि तुम्हारा ........!

अनायास, असमय, अकारण
हंसी अच्छी नहीं लगती....!

फिर यह मौत....?
बिलकुल सही लिखा है मार्मिक रचना बधाई

हिमांशु । Himanshu said...

इस पंक्ति का प्रभाव महसूस कर रहा हूँ -

"सड़क पर वही चल रहे होते हैं
जिनसे न जाने कितनों के
अरमान जुड़े होते हैं ।


और कविता के अंत में जो वैपरीत्य उघाड़ कर रखा है, वह भी कितना विचित्र है ? समझ से पर, विचार से दूर ।

Mithilesh dubey said...

भाई वाह क्या बात है, दिल को छु गयी आपकी ये रचना। बहुत-बहुत बधाई

Udan Tashtari said...

अति मार्मिक!!

Arvind Mishra said...

घटना बहुत अफसोसनाक और अभिव्यक्ति मार्मिक !

वाणी गीत said...

मर्मस्पर्शी रचना ..!!

Jai Prakash Chaurasia said...

जीवन को उसके हर रूप में देख्नना पड़ता है-मृत्यु भी उसका एक घटक है- संवेदना अच्छी है।